नमस्कार दोस्तों आज हम इस लेख में (vwap) के बारे में बात करेंगे जिसे फुल फॉर्म में (volume weighted average price) कहाँ जाता है। आज हम जानेगे यह इंडिकेटर किस काम आता है और कैसे हम इस अच्छे से इस्तेमाल कर सकते है।

(VWAP) इंडिकेटर क्या है ?

यह एक टेक्निकल एनालिसिस इंडिकेटर है जो एक दिन होने वाले ट्रेडिंग में वॉल्यूम के हिसाब से औसत कीमत बताता है जिससे इंट्राडे ट्रेडर अच्छे प्रकार से कीमत की चाल को समझ सके और मुनाफा ट्रेडिंग भी कर सके। हलाकि इस इंडिकेटर का प्रयोग (संस्थागत निवेशक और मुटुअल फण्ड) द्वारा किया जाता क्योकि जब भी बड़ा ट्रेड बाजार में डलता है। तो क़ीमत एकदम से बहुत ज्यादा ऊपर नीचे होती और उसके बाद (संस्थागत निवेशक और मुटुअल फण्ड) कुछ समय तक कीमत को सही जगह आने का समय देते और उसके बाद दुबारा से अपना ट्रेड डालते है। ताकि बाजार की कीमत को ज्यादा ऊपर नीचे न किया जा सके।

(VWAP) इंडिकेटर से ट्रेंड का पता कैसे लगाए ? :-

  • अगर कीमत (VWAP) से ऊपर चल रही है तो बाजार बुलिश यानि (बढ़त) की  तरफ है। 

  • अगर कीमत (VWAP) से नीचे चल रही है तो बाजार बेयरिश यानि (गिरावट) की तरफ है।

हमे कहाँ (Long Trade) & (Short Trade) लेना चाहिए चाहिए ?:-

  • (Long Trade) – हमे बढ़त की तरफ का ट्रेड तब लेना है जब कीमत (VWAP) के पास हो और ऊपर की तरफ हो और (VWAP) लाइन के थोड़ा नीचे आपको स्टॉप लॉस लगाना चाहिए।

  • (Short Trade) – हमे गिरावट की तरफ का ट्रेड तब लेना चाहिए जब कीमत (VWAP) के पास हो और नीचे की तरफ हो और (VWAP) लाइन के थोड़ा नीचे स्टॉप लॉस लगाना चाहिए।

किस टाइम फ्रेम में इसका प्रयोग करना चाहिए ?:-

1 Minute और 5 मिनट सबसे बेहतरीन है।

(VWAP) फार्मूला :-

LEAVE A REPLY