dow theory क्या है?

0
475

नमस्कार दोस्तों आज हम जानेगे (Dow Theory) के बारे में ये तरीका technical analysis के लिए बहुत पहले से प्रयोग में लाया जा रहा है।  CANDLESTICK की खोज से पहले से लोग इसे प्रयोग कर रहे है। और आज भी इसका प्रयोग अच्छे पैमाने पर किया  जाता है।

DOW THEORY को (CHARLES  H . DOW) ने पूरी दुनिया में पेश किया था। ये थ्योरी कुछ मान्याताओं पर आधारित है जो कि  चार्ल्स के कई वर्षो के बाजार के अवलोकन पर निर्धारित है। इसके कुछ (9) सिद्धांत है और ये सिद्धांत इस थ्योरी का मार्गदर्शन माना जाता है।

  1. बाजार हर समय और हर चीज में छूट देता है जो बाजार को जानता है  उसको भी, और जो नहीं जानता  उसको भी,लेकिन अगर कोई ऐसी घटना होती है तो बाजार जल्द से जल्द अपनी सही कीमत की ओर बढ़ना शुरू करता है।

  2. बाजार में कुल तीन प्रकार के रुझान (TREND) होते है।  पहला – प्राथमिक (PRIMARY TREND), दूसरा-माध्यमिक (SECONDARY TREND),तीसरा – मामूली (MINOR TREND) .

  3. प्राथमिक रुझान (PRIMARY TREND) बाजार का सबसे लम्बा रुझान माना जाता है जो की लगभग 1 साल से 3 साल तक के लिए देखा जाता है। ये रुझान अप  ट्रेंड या डाउन ट्रेंड में हो सकता है बाजार में लम्बी अवधि में काम करने वाले लोग इस रुझान को ध्यान में रखकर काम करते है।

  4. माध्यमिक रुझान (SECONDARY TREND) ये रुझान बाजार में 3 हफ्तों से 3 महीने तक देखा जाता है। ये रुझान प्राथमिक रुझान के लिए एक सुधार (CORRECTIONS) की स्थिति मानी जाती है।

  5. मामूली रुझान (MINOR TREND) को बाजार का शोर समझा जाता है और ये रुझान कुछ दिनों से कुछ हफ्तों तक रह सकता है।

  6. सभी रुझान एक ही दिशा में देखना जरुरी है क्योकि  बाजार के सभी INDEX एक साथ ही बढ़ते है। ऐसा नहीं हो सकता कि  (निफ़्टी 50 ऊपर जा रहा है और निफ़्टी 100 नीचे आ रहा है यानि कहने  का मतलब यह है कि  जब तक आपको सारे रुझान एक दिशा में न दिखे तो आप व्यापार न करे।

  7. वॉल्यूम (VOLUME) बाजार में बहुत जरुरी है जब तक बाजार में बढ़ती कीमत के साथ वॉल्यूम नहीं बढ़ता तो ये एक छलावा हो सकता है ठीक इसके विपरीत गिरती कीमत में वॉल्यूम कम होना जरुरी है।

  8. SIDEWAYS बाजार SECONDARY बाजार का दूसरा विकल्प हो सकता है। कई बार बाजार में शेयर एक छोटी सी रेंज के अंदर ही काम कर रहे होते है।

  9. डॉव थ्योरी के अंदर बंद कीमत (CLOSE PRICE) सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है क्योकि ये मूल्य बाजार दैनिक शोर के बाद निर्धारित होता है। इसलिए हमेशा इस मूल्य पर ध्यान देना चाहिए।

डॉव थ्योरी के अनुसार बाजार तीन चरणों में काम करता है और उसको दोहराता रहता है। जिसमे पहला है संचय चरण (ACCUMULATION PHASE) , दूसरा – मार्क उप (MARK UP) , तीसरा – वितरण चरण (DISTRIBUTION PHASE)

  1. संचय चरण (ACCUMULATION PHASE) – ये आमतौर पर बाजार में भरी बिक्री के बाद होता है जहा कोई शेयर काफी लम्बे समय तक गिरता है हर कोई ऐसे शेयर को खरीदना पसंद नहीं करता जब तक शेयर के अंदर स्मार्ट मनी न आ जाये।  स्मार्ट पैसा आमतौर  संस्थागत निवेशक होते है जो कि  बाजार में (VALUE FOR MONEY) शेयर की तलाश में रहते है। जैसे ( MUTUAL FUND , FII , DII) और ये निवेशक लम्बी अवधि के लिए बाजार में पैसा लगते है। और इस तरह संचय चरण बन जाता है इसलिए संचय चरण ज्यादा तर नीचे बनते है लेकिन ये जरुरी है। और जब संचय चरण शुरू होता है तो कीमत ज्यादा नीचे नहीं गिरती और एक (SUPPORT LEVEL) बना देती है। 
  2. मार्कअप  (MARK UP PHASE) – जब संस्थाओं द्वारा शेयर को खरीद लिया जाता है तब जाकर बाजार में मार्कअप  चरण शुरू होता है।  क्योकि अब बाजार में छोटे निवेशक भी घुस जाते है जो कि  छोटी अवधि के लिए बाजार में खरीदारी करते है। इस चरण की सबसे खास बात ये होती है कि  ये बहुत तेज होता है और शेयर की कीमत बहुत तेजी से ऊपर जाती है। 
  3. वितरण चरण ( DISTRIBUTION PHASE) – अब जब सभी शेयर बहुत तेजी दिखा रहे होंगे  चारो तरफ उत्साह का माहौल और हर कोई इस बाजार में पैसा लगाना चाहता है।  उसके बाद वितरण चरण शुरू होता है। अब स्मॉर्ट निवेशक अपने शेयर धीरे -धीरे बेचना शुरू करते है।  और जब सारी होल्डिंग बिक जाती फिर बाजार में निराशा दिखाई देती है और इस बाजार पूरा सर्कल  खत्म हो जाता है। उसके बाद फिर संचय चरण शुरू हो जाता है।  

ध्यान रखे ये सर्कल  लम्बे समय से लेकर छोटे समय तक भी चल सकता है इसलिए आपको बाजार को TIME करना आना चाहिए।  

 

बाजार में संचय और वितरण चरण को समझने के लिए कुछ चार्ट पैटर्न का प्रयोग किया जा सकता है।  

  • डबल नीचे और डबल शीर्ष गठन – The Double bottom & Double top

 

  • ट्रिपल नीचे और ट्रिपल टॉप         –  The Triple Bottom & Triple Top

  • रेंज गठन, और                           – Range formation, and

  • ध्वज गठन                                 –  Flag formation

उम्मीद है आपको ये ज्ञान अच्छा लगा होगा और जो चार तरीके आपको बताये गए है।  इनको समझने के लिए आप हमारी YOUTUBE VIDEO को देख सकते है नीचे दिए गए बटन को दबा कर।

LEAVE A REPLY