CURRENCY MARKET ( FOREX MARKET ) क्या है?

CURRENCY MARKET को FOREX MARKET भी कहते है। कर्रेंसी मार्केट में मुद्रा का आदान प्रदान होता है। प्रत्येक देश की मुद्रा अलग अलग होती है और जब कोई दो देशों के बीच आयात निर्यात या व्यापार होता है तो ऐसी परिस्थिति में करेंसी आदान प्रदान होता है। करेंसी का आदान प्रदान दोनों देशों की करेंसी बीच के आपस के भाव के अनुसार होता है। जिसे EXCHANGE RATE कहते है जैसे – उदाहरण के लिए भारत दूसरे देशों से कच्चे तेल का आयात करने के लिए विदेशी मुद्रा में पेमेंट करनी पड़ती है और भारत को जो पेमेंट मिलती है वह भी विदेशी मुद्रा में ही मिलती है। जैसे अमेरिकी डॉलर और यूरोप का यूरो।

पूरे विश्व में चार विदेशी मुद्राओं में काम होता है –

  1. अमेरिका का डॉलर

  2. यूरोप का यूरो

  3. ब्रिटिश का पाउंड

  4. जापान का येन

और सबसे ज्यादा ट्रेडिंग अमेरिकी डॉलर में होता है

 CURRENCY MARKET में आप विदेशी मुद्रा खरीद व बेच सकते है। करेंसी मार्केट पूरे विश्व में अलग अलग देशों में अलग अलग शहरों में एक साथ एक ही समय में सप्ताह के पाँच दिन तथा 24 घंटे चलता रहता है।

कर्रेंसी मार्केट में डॉलर और यूरो तथा अन्य मुद्राओं के भाव आपस में एक साथ बदलते रहते है। परन्तु डॉलर और INR आपस में भाव का हमारी अर्थव्यवस्था तथा शेयर मार्केट पर असर पड़ता है।

CURRENCY MARKET  में ट्रेडिंग करते समय कौन कौन सी सावधानियाँ बरतनी चाहिए आइये जाने –

  1. सबसे पहले आप यह जान ले कि इसमें 90% लोग LOSS खाते है। इसलिए आपको कर्रेंसी मार्केट को अच्छे से ANALYSIS करके ही ट्रेडिंग करे।और पैसा थोड़ा थोड़ा करके लगाए एक साथ सारा पैसा न लगाए।

  2. BORROWED MONEY का USE न करे यानि आप वही पैसा लगाए जो आपका अपना हो और किसी FRIEND या रिश्तेदार का न हो।

  3. ब्रोकर या FUND MANAGER से किसी  की सुविधा लेते समय सतर्कता बरते और उनके बारे में अच्छे से जानकारी ले कर ही काम करे।

अधिक जानकारी के लिए आप हमारी (Youtube Video) को नीचे दिए गए।  बटन को दबा कर देख सकते है। 

LEAVE A REPLY